Title : तुम्हें ज़िन्दगी के उजाले
Movie/Album/Film: पूर्णिमा -1965
Music By: कल्याणजी-आनंदजी
Lyrics : गुलज़ार
Singer(s): मुकेश

तुम्हें ज़िन्दगी के उजाले मुबारक
अंधेरे हमें आज रास आ गए हैं
तुम्हें पा के हम ख़ुद से दूर हो गए थे
तुम्हें छोड़कर अपने पास आ गए हैं
तुम्हें ज़िन्दगी के…

तुम्हारी वफ़ा से शिक़ायत नहीं है
निभाना तो कोई रवायत नहीं है
जहाँ तक क़दम आ सके आ गए हैं
अंधेरे हमें आज…
तुम्हें ज़िन्दगी के…

चमन से चले हैं ये इल्ज़ाम लेकर
बहुत जी लिए हम तेरा नाम लेकर
मुरादों की मंज़िल से दूर आ गए हैं
अंधेरे हमें आज…
तुम्हें ज़िन्दगी के…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *